Posts in tag

voters’ choice


लोकतंत्र व निर्वाचन

Read More

यह लेख श्री अम्बिका प्रसाद वाजपेयी ने 1957 के निर्वाचन से पहले लिखा था। आज की तारीख़ में इसे पढ़ने पर यह एहसास होता है कि यह कितना सटीक और सामयिक है, फिर सत्ताधारी पार्टी चाहे कोई भी हो। आगामी २५ फरवरी से १२ मार्च तक प्रायः तक सारे देश में निर्वाचन की धूम रहेगी, …